Hanuman ji Arti In Hindi


lord Hanuman , bhagwan Hanuman




हनुमान जी की आरती इन हिंदी को गाना, जो कि दुष्टों के विनाशक है, पृथ्वी पर श्री राम के स्पोर्टिव नाटक में एक महान नायक उनकी बड़ी शक्ति भी पहाड़ों को हिला देती है न तो बीमारी और न ही अशुद्धियों की तुलना उनके भक्तों की तुलना में होगी माँ अंजनी का यह पुत्र बेहद ताकतवर है। वह लगातार महान के लिए सुविधा और संरक्षण प्रदान करता है। भगवान राम ने सीता को खोजने के काम के साथ बहादुर हनुमान को सौंपा, कि वह लंघल में कूद गया और राजधानी को जला दिया।

Lord Hanuman Arti In Hindi

आरती कीजै हनुमानलला की,
दुष्टदलन रघुनाथ कला की।


जाके बल से गिरिवर कांपे,
रोग दोष जाके निकट न झांपै।

अंजनिपुत्र महा बलदायी,
संतन के प्रभु सदा सहाई।

दे बीरा रघुनाथ पठाये,
लंका जारि सिया सुधि लाये।

लंका-सो कोट समुद्र-सी खाई,
जात पवनसुत बार न लाई।

लंका जारि असुर संहारे,
सियारामजी के काज संवारे।

लक्ष्मण मूर्छित परे सकारे,
आनि संजीवन प्रान उबारे।

पैठि पताल तोरि जम-कारे,
अहिरावन की भुजा उखारे।

बाएं भुजा असुरदल मारे,
दहिने भुजा सन्तजन तारे।

सुर नर मुनि आरती उतारे,
जय जय जय हनुमान उचारे।

कंचन थार कपूर लौ छाई,
आरति करत अंजना माई।

जो हनुमानजी की आरति गावै,
बसि बैकुण्ठ परम पद पावै।

Hanumna Ji ki aarti in hindi is End Here.

Read Hanuman aarti in english click here